Lhasa Ki Aur Class 9 Summary : ल्हासा की ओर

Lhasa Ki Aur Class 9 Summary ,

Lhasa Ki Aur Class 9 Summary , Summary Of Lhasa Ki Aur Class 9 Hindi Kshitij Bhag 1 Chapter 2 , Lhasa Ki Aur Class 9 full Explanation , ल्हासा की ओर पाठ का सारांश कक्षा 9 हिन्दी क्षितिज भाग 1 पाठ 2 , 

Summary Of Lhasa Ki Aur

ल्हासा की ओर पाठ का सारांश

Note – “ल्हासा की ओर” पाठ के प्रश्न उत्तर पढ़ने के लिए Link में Click करें – Next Page 

“ल्हासा की ओर” पाठ का सारांश हमारे YouTube channel  में देखने के लिए इस Link में Click करें। YouTube channel link – ( Padhai Ki Batein / पढाई की बातें)

Lhasa Ki Aur Class 9 Summary

इस पाठ के लेखक राहुल सांकृत्यायन जी हैं।

“ल्हासा की ओर” एक यात्रा वृतांत हैं जिसमें लेखक ने अपनी पहली तिब्बत यात्रा का वर्णन बहुत शानदार ढंग से किया हैं । लेखक ने यह यात्रा सन् 1929-30 में नेपाल के रास्ते की थी। क्योंकि भारत उस समय अंग्रेजों का गुलाम था और भारतीयों को तिब्बत यात्रा में जाने की अनुमति नहीं थी।

इसीलिए लेखक ने यह यात्रा छद्म वेश धारण कर (वेश बदलकर) की थी। वो अपने असली रूप में न जाकर भिखारी के वेश में तिब्बत यात्रा में गये थे।

Lhasa Ki Aur Class 9 Summary

लेखक ने जब तिब्बत की यात्रा की थी तब फटीकलिङ्पोङ् का रास्ता नहीं बना था। उस समय नेपाल से तिब्बत जाने का एक ही रास्ता था। वैसे यह मुख्यत: व्यापारिक और सैनिक रास्ता था। जिससे होकर व्यापारी व सैनिक आते जाते थे । परन्तु इसी रास्ते से नेपाल व भारत के लोग भी आते जाते थे। इसीलिए लेखक ने इसे उस समय का मुख्य रास्ता बताया है।

लेखक कहते हैं कि रास्ते में जगह-जगह पर चीनी फौजियों की चौकियों व किले बने हुए थे। जिनमें कभी चीनी सैनिक रहा करते थे। लेकिन अब वो पूरी तरह से टूट चुके हैं और वीरान भी हैं। लेकिन उन किलों के कुछ हिस्सों में वहां के किसानों ने अपना बसेरा बना लिया हैं। इसीलिए उन किलों के कुछ हिस्से आबाद थे।

ऐसे ही एक परित्यक्त चीनी किले (छोड़ा हुआ किला) में लेखक व उनके मित्र चाय पीने के लिए रुके। तब उन्होंने देखा कि उस समय तिब्बत में जातिपाति , ऊंच-नीच , छुआछूत का भेद भाव नहीं था और न ही वहाँ की महिलाएं परदा करती थी । हाँ चोरी के डर से निम्न स्तर के भिखारियों को घरों में घुसने नहीं दिया जाता था।

मगर अपरिचितों के घरों के अंदर आने-जाने में कोई रोकटोक नहीं थी।अपरिचितों द्वारा चाय का सामान देने पर घर की महिलायें (बहु या सास) उन्हें चाय बनाकर दे देती थी। वहां पर मक्खन व नमक की चाय पी जाती हैं। 

परित्यक्त चीनी किले से चाय पीने के बाद जब वो आगे चलने लगे तो एक व्यक्ति ने उनसे दो चिटें (प्रवेश पत्र / Permission Letter) राहदारी माँगी। ये चिटें उन्हें गांव के एक पुल को पार करने के लिए देनी पड़ती थी। पुल पार करने के बाद वो थोड़ला के पहले पड़ने वाले आखिरी गाँव में पहुँच गए।

यहाँ सुमति (राहुल के बौद्ध भिक्षु दोस्त) की पहचान होने के कारण भिखारी के भेष में होने के बाद भी उन्हें रहने को अच्छी जगह मिली। लेखक कहते हैं कि पांच साल बाद जब वो इसी रास्ते से वापस लौट रहे थे तब उन्हें रहने की जगह नहीं मिली थी और उन्हें एक झोपड़ी में ठहरना पड़ा था। जबकि वे उस वक्त भिखारी नहीं बल्कि भद्र (अच्छे) यात्री के वेश में थे।

लेखक की यात्रा का अगला लक्ष्य डाँडा (पहाड़) थोङ्ला पार करना था। जो सबसे कठिन हिस्सा था। क्योंकि डाँडे तिब्बत में सबसे खतरे की जगह थी। 1600 -1700 फिट की ऊंचाई पर होने के कारण दोनों ओर गाँव का नामोनिशान नही था।

डाकुओं के छिपने की यह सबसे सुरक्षित जगह थी। ओर सरकार भी इस तरफ लापरवाह थी। इसीलिए यहाँ अक्सर लूटपाट व हत्यायें हो जाती थी। चूँकि वे लोग भिखारी के वेश में थे। इसलिए उन्हें कोई चिंता नहीं थी। परन्तु मन में डर बना था। यहां हथियार का कानून भी लागू नहीं था। इसीलिए लोग अपनी सुरक्षा के लिए हथियार रखते थे। 

लेकिन थोङ्ला पहाड़ की उस दुर्गम चढ़ाई में जाना बहुत मुश्किल था। और उनका अगला पड़ाव लङ्कोर था जो वहां से करीबन 16 -17 मील की दूरी पर था । इसीलिए दूसरे दिन उन्होंने (लेखक व उनके दोस्त सुमति ने ) डाँडे की चढ़ाई घोड़े से की।

पहाड़ के ऊपर पहुंच कर उन्होंने देखा कि दक्षिणपूरब ओर बिना बर्फ और हरियाली के नंगे पहाड़ दिखाई दे रहे थे तथा उत्तर की ओर पहाड़ों पर कुछ बर्फ दिखाई दे रही थी। वहां स्थानीय देवता का मंदिर भी बना था।  

पहाड़ से उतरते समय लेखक का घोडा थोड़ा धीरे चलने लगा जिससे उनके साथी आगे निकल गए। वो रास्ता भटक गए और वे बाएं रास्ते की ओर (गलत रास्ते ) डेढ़ मील आगे चल दिए। बाद में लोगों से पूछ कर वापस सही रास्ते (लङ्कोर का रास्ता दाहिने के तरफ ) में आ तो गये। मगर तब तक काफी देर हो गयी थी। जिससे उनके मित्र सुमति नाराज हो गए परन्तु जल्दी ही उनका गुस्सा ठंडा हो गया और वे लङ्कोर में एक अच्छी जगह पर ठहरे। 

उसके बाद वो तिङ्ऱी के मैदान में पहुंचे जो पहाड़ों से घिरा एक टापू था। जिसके सामने एक छोटी सी पहाड़ी दिखाई पड़ती थी जिसका नाम तिङ्ऱीसमाधिगिरी था। आसपास के गाँवों में सुमति के बहुत परिचित थे। इसीलिए वो उनसे मिलना चाहते थे और उन्हें बोध गया से लाये कपड़ों के गंडे भी देना चाहते थे। परन्तु लेखक ने उन्हें मना कर दिया और ल्हासा पहुंचकर उन्हें पैसे देने का वादा किया । इस बात पर सुमति मान गए और उन्होंने आगे बढ़ना शुरू किया।

उन्होंने सुबह चलना शुरू नहीं किया था। इसीलिए उन्हें कड़ी धूप में आगे बढ़ना पड़ रहा था।कुली न मिलने पर वे अपना सामान पीठ पर लादे और हाथ में डंडा लिए चल रहे थे। सुमति यहां एक और यजमान से मिलना चाहते थे। इसलिए उन्होंने बहाना कर टोकर विहार की ओर चलने को कहा।

तिब्बत की जमीन छोटेबड़े जागीरदारों के हाथों में बँटी थी । इन जागीरों का बड़ा हिस्सा बौद्ध मठों को भी जाता था ।अपनीअपनी जागीर में हर जागीरदार कुछ खेती खुद भी करता था जिसके लिए मजदूर उन्हें बेगार में मिल जाते थे। बौद्ध भिक्षु भी खेती की निगरानी करते थे। 

लेखक शेकर की खेती के मुखिया न्मसे (बौद्ध भिक्षु) से मिले। उनके मठ में एक अच्छा मंदिर था जिसमें बुद्ध वचन की हस्तलिखित 103 पोथियाँ रखी थीं। लेखक इन्हें पढ़ने में व्यस्त हो गए। इसी दौरान सुमति ने आसपास के अपने यजमानों से मिलकर आने के लिए लेखक से पूछा , जिसे लेखक ने खुशी खुशी मान लिया। दोपहर तक अपने यजमानों से मिलकर सुमति भी वापस आ गए।

चूँकि तिङ्ऱी वहां से ज्यादा दूर नहीं था इसीलिए उन्होंने अपना सामान पीठ पर उठाया और न्मसे से विदा लेकर आगे चल दिए।

लेखक का जीवन परिचय 

इस पाठ के लेखक राहुल सांकृत्यायन जी हैं।जिनका जन्म सन 1893 में उनके ननिहाल पन्दाह गांव में हुआ था जो वर्तमान में उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में स्थित हैं। इनका मूल नाम केदार पांडेय था। इन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा काशी और आगरा से प्राप्त की। उसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए वो लाहौर चले गए।

सन 1930 में उन्होंने श्रीलंका जाकर बौद्ध धर्म अपना लिया। और अपना नाम केदार पांडे से बदलकर राहुल सांकृत्यायन रख लिया। सन 1963 में उनका देहांत हो गया

प्रमुख रचनाएं

  • मेरी जीवन यात्रा (छह भागों में संकलित)
  • बाइसवीं सदी
  • वोल्गा से गंगा
  • भागो नहीं दुनिया को बदलो
  • दिमाग की गुलाम 
  • घुमक्कड़ शास्त्र
  • दर्शन दिग्दर्शन 

Lhasa Ki Aur Class 9 Summary : ल्हासा की ओर

You are most welcome to share your comments . If you like this post . Then please share it . Thanks for visiting.

यह भी पढ़ें……

गद्य खंड

दो बैलों की कथा पाठ के प्रश्न उत्तर कक्षा 9 

दो बैलों की कथा पाठ का सारांश (Summary) 

Lhasa Ki Aur Class 9 Summary 

Question Answers of Lhasa Ki Aur Class 9

Question Answers Of Upbhoktavad ki Sanskriti Class 9 

Upbhoktavad Ki Sanskriti Class 9 Summary (उपभोक्तावाद की संस्कृति सारांश )

Question Answers Of Sanwale Sapno Ki Yaad Class 9

Sanwale Sapno Ki Yaad Class 9 Summary

Question Answers Of Nana Saheb Ki Putri Devi Maina Ko Bhasm Kar Diya Class 9

Nana Saheb Ki Putri Devi Maina Ko Bhasm Kar Diya Class 9 Summary

Question Answers Of Premchand ke Phate Jute Class 9

Premchand Ke Phate Jute Class 9 Summary

Mere Bachpan Ke Din Class 9 Summary

Mere Bachpan Ke Din Class 9 Question Answer

Ek Kutta Aur Ek Maina Class 9 Summary 

Ek Kutta Aur Ek Maina Class 9 Question Answers

काव्य खंड –

Sakhiyan Avam Sabad Class 9 Full Explanation

Sakhiyan Avam Sabad Class 9 Question Answers

Full Explanation Of vaakh (वाख) Class 9

Question Answer Of vaakh (वाख) Class 9

Gram Shree Class 9 Question Answer

Gram Shree Class 9 Explanation 

Kaidi Aur Kokila Class 9 Question Answer

Kaidi Aur Kokila Class 9 Full Explanation

Raskhan Ke Savaiye Class 9 Question Answers

Raskhan Ke Savaiye Class 9 Explanation

Bachche Kam Par Ja Rahe Hain Class 9 

Yamraj Ki Disha Class 9 Explanation 

Megh Aaye Class 9 Question Answer

Chandra Gahna Se Lautati Ber Class 9 Question Answer

Chandra Gahna Se Lautati Ber Class 9 Explanation And Summary

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *