गौतम बुद्ध के 102 अनमोल वचन : Gautam Buddha Quotes 

Lord Gautam Buddha quotes : भगवान गौतम बुद्ध के अनमोल वचन

Lord Gautam Buddha quotes 

भगवान गौतम बुद्ध के अनमोल वचन

दुनिया को शांति और अहिंसा का पाठ पढ़ाने वाले महात्मा गौतम बुद्ध बौद्ध धर्म के संस्थापक माने जाते हैं। उन्होंने अपनी युवावस्था में सत्य और ज्ञान की खोज के लिए अपनी पत्नी-पुत्र , राजपाट , धन  , वैभव सब त्याग कर कठोर तपस्या की और अंततः बोधगया में एक वटवृक्ष के नीचे उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई।

Gautam Buddha Quotes 

महात्मा बुद्ध के उपदेश व उनके अनमोल विचार आज भी हमारे समाज और युवा वर्ग के लिए प्रेरणादायक हैं। उनके अनमोल विचारों को अपनाकर कोई भी व्यक्ति सुखी व शांतिपूर्वक जीवन व्यतीत कर सकता है। आइए जानते हैं भगवान बुद्ध के अनमोल वचन। 

Gautam Buddha Quotes 

  1. स्वास्थ्य सबसे बड़ा उपहार है , संतोष सबसे बड़ा धन और विश्वास सबसे अच्छा संबंध।
  2. जो गुजर गया उसके बारे में मत सोचो और भविष्य के सपने मत देखो। केवल वर्तमान पर ध्यान केंद्रित करो ।
  3. इंसान के अंदर ही शांति का वास होता है , उसे बाहर मत तलाशो ।
  4. अपनी स्वयं की क्षमता से काम करो , दूसरों पर निर्भर मत रहो ।
  5. घृणा , घृणा से नहीं प्रेम से खत्म होती है। यहीे शाश्वत सत्य है। 
  6. अनुशासनहीन मन से अधिक उदंड और कुछ नहीं है। और अनुशासित मन से अधिक आज्ञाकारी और कुछ नहीं है।
  7. हमें हमारे अलावा कोई और नहीं बचा सकता ,  हमें अपने रास्ते पर खुद चलना है।
  8. आप पूरे ब्रह्माण्ड में कहीं भी ऐसे व्यक्ति को खोज लें ,  जो आपको आपसे ज्यादा प्यार करता हो।  आप पाएंगे कि जितना प्यार आप खुद से कर सकते हैं , उतना कोई आपसे नहीं कर सकता।
  9. अपने शरीर को स्वस्थ रखना भी एक कर्तव्य है , अन्यथा आप अपनी मन और सोच को अच्छा और साफ़ नहीं रख पाएंगे। 
  10. तीन चीज़ें ज्यादा देर तक छुपी नहीं रह सकतीं।  सूर्य , चन्द्रमा और सत्य। 
  11. जिस तरह एक मोमबत्ती की लौ से हजारों मोमबत्तियों को जलाया जा सकता है , फिर भी उसकी रौशनी कम नहीं होती। उसी तरह एक-दूसरे से खुशियाँ बांटने से कभी खुशियाँ कम नहीं होतीं ।
  12. हम अपनी सोच से ही निर्मित होते हैं , हम जैसा सोचते हैं , वैसे ही बन जाते हैं। जब मन शुद्ध होता है तो खुशियाँ परछाई की तरह आपके साथ चलती हैं । आपका मन ही सब कुछ है , आप जैसा सोचेंगे वैसा बन जायेंगे ।
  13. निष्क्रिय होना मृत्यु का एक छोटा रास्ता है। मेहनती होना अच्छे जीवन का रास्ता है।  मूर्ख लोग निष्क्रिय होते हैं और बुद्धिमान लोग मेहनती ।
  14. किसी परिवार को खुश , सुखी और स्वस्थ रखने के लिए सबसे जरुरी है अनुशासन और मन पर नियंत्रण।अगर कोई व्यक्ति अपने मन पर नियंत्रण कर ले , तो उसे आत्मज्ञान का रास्ता मिल जाता है।
  15. क्रोध करना एक गर्म कोयले को दूसरे पर फैंकने के समान है , जो पहले आपका ही हाथ जलाएगा।
  16. तुम्हें अपने क्रोध के लिए नहीं , मगर क्रोध की वजह से दंड भुगतना पड़ेगा ।
  17.  हजारों लड़ाइयाँ जीतने से बेहतर है कि आप खुद को जीत लें , फिर वो जीत आपकी होगी जिसे कोई आपसे नहीं छीन सकता।  ना कोई देवदूत और ना कोई राक्षस ।
  18. हमारे वास्तविक जीवन की सबसे बड़ी विफलता है हमारा असत्यवादी होना । इसलिए जीवन मे हमेशा मृदु भाषी और सत्यवादी रहे ।
  19. जिस तरह एक मोमबत्ती बिना आग के खुद नहीं जल सकती , उसी तरह एक इंसान बिना आध्यात्मिक जीवन के जीवित नहीं रह सकता ।
  20. हम जब बोलते हैं तो हमें अपने शब्दों को देखभाल के चुनना चाहिए , कि सुनने वाले पर उसका क्या प्रभाव पड़ेगा। अच्छा या बुरा ।
  21. आपको जो कुछ मिला है उस पर घमंड ना करो और ना ही दूसरों से ईर्ष्या करो।  घमंड और ईर्ष्या करने वाले लोगों को कभी भी मन की शांति नहीं मिलती ।
  22. हजारों खोखले शब्दों से अच्छा है एक वो शब्द , जो शांति लाए। 
  23. किसी विवाद में हम जैसे ही क्रोधित होते हैं , तो हम सच का मार्ग छोड़ देते हैं और अपने लिए प्रयास करने लगते हैं। 
  24. अपने मोक्ष के लिए खुद ही प्रयास करें , दूसरे पर निर्भर ना रहें। 
  25. किसी जंगली जानवर की अपेक्षा एक कपटी और दुष्ट मित्र से अधिक डरना चाहिए। जानवर तो बस आपके शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है। पर एक कपटी मित्र आपकी बुद्धि को नुकसान पहुंचा सकता है। 
  26. आपके पास जो कुछ भी है उसे बढ़ा-चढ़ा कर मत बताइए और ना ही दूसरों से ईर्ष्या कीजिए। जो दूसरों से ईर्ष्या करता है उसे मन की शांति नहीं मिलती। 
  27. वह जो पचास लोगों से प्रेम करता है उसे पचास संकट हैं। वह जो किसी से प्रेम नहीं करता उसके एक भी संकट नहीं है। 
  28. मैं कभी नहीं देखता कि , क्या किया जा चुका है। मैं हमेशा देखता हूं कि क्या किया जाना बाकी है। 
  29. बिना सेहत के जीवन जीवन नहीं है। बस पीड़ा की एक स्थिति है , मौत की छवि है। 
  30.  हर चीज पर संदेह करो , स्वयं अपना प्रकाश  ढूंढो। 
  31. सत्य के मार्ग पर चलते हुए कोई दो ही गलतियां कर सकता है पूरा रास्ता ना तय करना और इसकी शुरुआत ही ना करना। 
  32. शक की आदत से भयावह कुछ भी नहीं है। शक लोगों को अलग करता है। यह एक ऐसा जहर है जो मित्रता खत्म करता है और अच्छे रिश्तों को तोड़ता है। यह एक कांटा है जो चोटिल करता है। एक तलवार है जो वध करती है। 
  33. बुराई होनी चाहिए ताकि अच्छाई उसके ऊपर अपनी पवित्रता साबित कर सके। 
  34. खुशी , अपने पास बहुत अधिक होने के बारे में नहीं है , खुशी बहुत अधिक देने के बारे में है। 
  35. मन और शरीर दोनों के लिए स्वास्थ्य का रहस्य है अतीत पर शोक मत करो , ना ही भविष्य की चिंता करो। बल्कि बुद्धिमानी और इमानदारी से वर्तमान में जियो। 
  36. जीवन में ये चीजें सबसे अधिक मायने रखती हैं कि आपने कितने अच्छे से प्रेम किया। आपने कितनी पूर्णता के साथ जीवन जिया। आपने कितनी गहराई से अपनी कुंठा को जाने दिया। 
  37. सबसे अंधेरी रात अज्ञानता है।   Gautam Buddha quotes
  38. अगर आप वास्तव में स्वयं से प्रेम करते हैं , तो आप कभी भी किसी को ठेस नहीं पहुंचा सकते हैं। 
  39. चलिए ऊपर उठें और आभारी रहे , क्योंकि अगर हमने बहुत नहीं तो , कुछ तो सीखा और अगर हमने कुछ भी नहीं सीखा , तो कम से कम हम बीमार तो नहीं पडे।  और अगर हम बीमार पड़े , तो कम से कम मरे नहीं।  इसलिए चलिए हम सभी आभारी हैं। 
  40. शरीर को अच्छी सेहत में रखना हमारा कर्तव्य है। नहीं तो हम अपना मन मजबूत और स्वस्थ नहीं रख पाएंगे। 
  41. जीवन में अपना उद्देश्य पता करना है और उसमें जी जान से जुट जाना है। 
  42. आप केवल वही खोते हैं , जिससे आप चिपक जाते हैं। 
  43. पहुंचने से अधिक जरूरी हैं , ठीक से यात्रा करना। 
  44. हर सुबह हम पुनः जन्म लेते हैं। हम आज क्या करते हैं।  यही सबसे अधिक मायने रखता है। 
  45.  मैं दुनिया के साथ भेदभाव नहीं करता बल्कि यह दुनिया है जो मेरे साथ भेदभाव करती है। 
  46. यदि एक पवित्र मन के साथ कोई व्यक्ति बोलता या काम करता है , तो कभी न जाने वाली परछाई की तरह ख़ुशी उसका पीछा करती है। 
  47. खुशी इस पर निर्भर नहीं करती कि आपके पास क्या है या आप क्या हैं। यह पूरी तरह से इस पर निर्भर करती है कि आप क्या सोचते हैं। 
  48. यह सोचना हास्यास्पद है कि कोई और आपको प्रसन्न या अप्रसन्न कर सकता है। 
  49. इस पूरी दुनिया में इतना अंधकार नहीं है कि वह एक छोटी सी मोमबत्ती का प्रकाश बुझा सके। 
  50. यदि हम स्पष्ट रूप से एक फूल के चमत्कार को देखें , तो हमारा पूरा जीवन ही बदल जाएगा।       क्यों मनाई जाती हैं बुद्ध पूर्णिमा ,यह भी जानिए 
  51. आकाश में पूर्व और पश्चिम का कोई भेद नहीं है। लोग अपने विचारों से भेद पैदा करते हैं। और फिर उनके सही होने पर यकीन कर लेते हैं।
  52. खुशी उन तक कभी नहीं आएगी , जो उसकी सराहना नहीं करते जो उनके पास पहले से मौजूद है।
  53. कुछ भी स्थायी नहीं है।
  54. जैसे ठोस चट्टान हवा से नहीं हिलती। उसी प्रकार बुद्धिमान व्यक्ति प्रशंसा या आरोपों से  विचलित नहीं होता है।
  55. एक क्षण एक दिन को बदल सकता है। एक दिन एक जीवन को बदल सकता है। और एक जीवन पूरे विश्व को बदल सकता है।
  56. यदि समस्या का समाधान किया जा सकता है तो चिंता क्यों करें। यदि समस्या का समाधान नहीं किया जा सकता है तो चिंता करना आपको कोई फायदा नहीं पहुंचाएगा।
  57. अगर आप किसी और के लिए दीपक जलाएंगे तो , वह आपका भी मार्ग प्रकाशित करेगा।
  58. जीवन में एकमात्र वास्तविक असफलता आप जो सर्वश्रेष्ठ जानते हैं , उसके प्रति सच्चे ना होना है।
  59. आप चाहे जितने पवित्र शब्द पढ़ लें , चाहे जितना बोल लो। वो आपका क्या भला करेंगे , यदि आप उन पर कार्य नहीं करते हैं।
  60.  कष्ट की जड़ आसक्ति है। Gautam Buddha quotes
  61. अपना हृदय अच्छी चीजों में लगाओ। इसे बार-बार करो और तुम प्रसन्नता से भर जाओगे।
  62. जिस दिन आप सारी सहायता अस्वीकार कर देते हैं , आप मुक्त हो जाते हैं।
  63. जो क्रोधित विचारों से मुक्त हैं , उन्हें निश्चय ही शांति प्राप्त होगी।
  64. यदि आप पर्याप्त शांत है , तो आपको ब्रह्मांड का प्रवाह सुनाई देगा। आप उसकी ताल महसूस कर पाएंगे। इस प्रवाह के साथ आगे बढ़िए।  आगे प्रसन्नता है और ध्यान महत्वपूर्ण है।
  65. तुम्हारा सबसे बड़ा शत्रु तुम्हें उतना नुकसान नहीं पहुंचा सकता , जितना कि तुम्हारे खुद के बेपरवाह विचार। लेकिन एक बार इन्हें काबू कर लिया जाए तो , फिर कोई तुम्हारी इतनी मदद भी नहीं कर सकता जितना तुम खुद अपनी कर सकते हो । यहां तक कि तुम्हारे माता-पिता भी नहीं।
  66. तुम्हारा शरीर कीमती है। यह हमारे जागृति का साधन है। इसका ध्यान रखो।
  67. आप जो सोचते हैं , वह आप बन जाते हैं। आप जो आप महसूस करते हैं , उसे आप आकर्षित करते हैं। जिसकी आप कल्पना करते हैं उसका आप निर्माण करते हैं।
  68. क्रोध को पाले रखना।  खुद जहर पीकर दूसरों के मरने की अपेक्षा करने के समान है।
  69. भूतकाल पहले ही बीत चुका है। भविष्य अभी तक आया नहीं है। तुम्हारे जीने के लिए बस एक ही क्षण है।
  70. एक तेज धार चाकू की तरह है जीभ। बिना खून बहाए मार देती हैं।
  71. यदि आप दिशा नहीं बदलते हैं तो संभवतः आप वही पहुंच जाएंगे , जहां आप जा रहे हैं।
  72. क्रोध को बिना क्रोधित हुए जीतो। बुराई को अच्छाई से जीतो। कंजूसी को दरियादिली से जीतो और असत्य को सत्य से ।
  73. सभी प्राणियों के लिए दया भाव रखें। चाहे वह अमीर हो या गरीब। सबकी अपनी अपनी पीड़ा है। कुछ बहुत अधिक भुगतते  हैं और कुछ बहुत कम।
  74. हर मनुष्य अपनी सेहत या बीमारी का रचयिता खुद ही है।
  75. एक कुत्ता इसलिए अच्छा नहीं समझा जाता क्योंकि वह अच्छा भोंकता  है। एक व्यक्ति इसलिए अच्छा नहीं समझा जाता , क्योंकि वह अच्छा बोलता है।
  76. किसी चीज पर यकीन मत करो। यह मायने नहीं रखता कि आपने उसे कहां पड़ा है या किस ने उसे कहा है। कोई बात नहीं अगर मैंने यह कहा है। जब तक कि वह आपके अपने तर्क और समझ पर खरे नहीं उतरे या मेल नहीं खाती हैं ।
  77. धैर्य महत्वपूर्ण है। याद रखें एक एक बूंद से ही लोटा भरता है। Gautam Buddha quotes
  78. इस तिहरे सत्य को सभी को सिखाओ। एक उदार दिल , दयालु भाषण तथा सेवा और करुणा का जीवन। ये वो चीजें हैं जो मानवता को नवीनीकृत करती हैं।
  79. जब आपको पता चलेगा कि सब कुछ कितना सही है , तब आप अपना सिर पीछे झुकाएंगे और आकाश की ओर देखकर मुस्कुराएंगे।
  80. एक योजना जिसे विकसित कर क्रियान्वित किया जाता है। वह उस योजना से अच्छी है जो बस एक योजना के रूप में ही मौजूद है।
  81. सब कुछ समझने का अर्थ है , सबको माफ कर देना।
  82. दर्द निश्चित है , परन्तु दुख वैकल्पिक।
  83. जो सोता नहीं हैं उसके लिए रात लंबी है , जो चलता नहीं है उसके लिए दूरी लंबी है और जो मूर्ख सच्चा धर्म नहीं जाता , उसके लिए जीवन ही लंबा है।
  84. प्रसन्नता का कोई मार्ग नहीं है , प्रसन्नता खुद ही मार्ग है।
  85. स्वयं पर विजय प्राप्त करना , दूसरों पर विजय प्राप्त करने से बड़ा काम है।
  86. सच्चा प्रेम , समझ से उत्पन्न होता है।
  87. पवित्रता अपने आप पर निर्भर करती है। कोई भी दूसरा आपको पवित्र नहीं कर सकता हैं ।
  88. जुनून जैसी कोई आग नहीं है। नफरत जैसा कोई दरिंदा नहीं है।  मूर्खता जैसा कोई जाल नहीं है। लालच जैसी कोई धार नहीं।
  89. जो बुद्धिमानी से जिए , उन्हें मृत्यु का भी भय नहीं होना चाहिए ।
  90. हर इंसान को यह अधिकार है कि वह अपनी दुनिया की खोज स्वयं करें। 
  91. पैर तभी पैर महसूस करता है जब वह जमीन को छूता है। 
  92. हर अनुभव कुछ न कुछ सिखाता है। इसीलिए हर अनुभव महत्वपूर्ण है। हम अपनी गलतियों से ही सीखते हैं। 
  93. सबसे बड़ी विफलता है सत्यवादी न होना। Gautam Buddha quotes
  94. परमात्मा ने हर इंसान को एक जैसा ही बनाया है। अंतर सिर्फ मस्तिष्क का है। 
  95. पहले अपने आप पर विजय प्राप्त करें। दूसरों को कुछ भी साबित करने से पहले खुद को साबित करें , क्योंकि हर व्यक्ति की पहली स्पर्धा तो अपने आप से होती है। इसीलिए दूसरों पर जीत हासिल करने के लिए पहले खुद पर जीत हासिल करना आवश्यक है। 
  96. आपको जो मिला है उसका अधिक मूल्यांकन ना करें और ना ही दूसरों से ईर्ष्या रखें। क्योंकि दूसरों से ईर्ष्या रखने वाले को कभी भी मन की शांति प्राप्त नहीं होती है। 
  97. सभी बुरे कर्म मन के कारण उत्पन्न होते हैं। अगर मन ही परिवर्तित हो जाए , तो अनैतिक कार्य का ख्याल ही नहीं आएगा।
  98. जो वक्त गुजर जाता हैं वो वापस नहीं आता है। हम अक्सर ऐसा सोचते हैं कि आज कोई काम नहीं हो पाया , तो हम उसे कल पूरा कर लेंगे। लेकिन जो वक्त गुजर गया वो वापस नहीं  आएगा।
  99. हजार योद्धाओं पर विजय पाना आसान है , लेकिन जो अपने आप पर विजय पाता है वही असली योद्धा होता है। 
  100. हजारों साल बिना समझदारी के जीने से बेहतर है , एक दिन समझदारी भरा जिओ। 
  101. चंद्रमा के जैसे बादलों के पीछे से निकलो और फिर चमक जाओ। 
  102. बहुत बोलने वाला व्यक्ति विद्वान नहीं कहलाता है। धीरज रखने वाला , क्रोध न करने वाला व निडर व्यक्ति ही विद्वान कहलाता है 

Lord Gautam Buddha quotes : भगवान गौतम बुद्ध के अनमोल वचन

You are most welcome to share your comments.If you like this post. Then please share it . Thanks for visiting.

यह भी पढ़ें……

क्यों मनाई जाती हैं बुद्ध पूर्णिमा ,जानिए 

Inspirational New Year Quotes

International Women’s Day Quotes  

Poem on International Women Day

Daughter’s Day Poem in hindi

Poem on Holi in Hindi

Poem on Teacher’s day in Hindi

Poem on My Today India in Hindi

Save Girl Teach Girl , A beautiful Poem

Leave a Reply

Your email address will not be published.