Bartolome Esteban Murillo की प्रसिद्द पेंटिंग कौन सी हैं ?

Who was Bartolome Esteban Murillo? बारतोलोमिओ एस्तेबन मुरिलो की प्रसिद्द पेंटिंग कौन सी हैं ? क्या है अपने पिता को स्तनपान कराती बेटी वाली पेंटिंग का रहस्य

Bartolome Esteban Murillo

नारी का हर रूप सुंदर है। नारी का हर रूप अदभुत है।नारी का हर रूप ममता व वात्सल्य से भरा हुआ है,चाहे वह मां का हो या पत्नी का,बहन या बेटी का रुप ह़ी क्यों ना हो।महिला का हर रूप श्रेष्ठ है क्योंकि वह अपनों के लिए बिना कुछ सोचे-समझे अपने प्राणों तक को भी खतरे में डाल देती हैं।वह त्याग की मूर्ति है।और यूरोप के मशहूर चित्रकार बारतोलोमिओ एस्तेबन मुरिलो की यह पेंटिंग शायद इसी बात को दर्शाती है ।

बारतोलोमिओ एस्तेबन मुरिलो की पेंटिंग अपने पिता को स्तनपान कराती बेटी चित्र आभार -विकिपीडिया

एक बार यूरोप में एक आदमी को किसी अपराध के जुर्म में भूखे मरने की सजा मिली थी।सजा के मुताबिक कैदी को जेल में बंद कर दिया गया और पहरेदारों को सख्त हिदायत दी गई थी कि जब तक कैदी की मौत ना हो जाए तब तक उसे जेल में बन्द रखा जाय और खाने का एक निवाला भी ना दिया जाए।अर्थात कैदी को भूखे मरने के लिए छोड़ दिया गया।

क्या है इमोजी,इमोजी का जन्म कहां और कब कैसे हुआ जानें 

पहरेदारों ने आदेश का पालन किया।कैदी की एक बेटी थी जो अपने पिता से अत्यधिक प्यार करती थी।बेटी ने राजा से अपने पिता से हर दिन एक बार मिलने देने का अनुरोध किया।जिसे राजा ने मान लिया और बेटी को पिता से दिन में एक बार मिलने की इजाजत दे दी।लेकिन जेल में पिता से मिलने से पहले बेटी की हर तरह से तलाशी ली जाती थी।ताकि वह कोई भी खाने का सामान अपने साथ न ले सके।

बेटी हर रोज अपने पिता से मिलती लेकिन भूख से बेहाल अपने पिता की हालत उससे नहीं देखी जाती।पिता हर दिन भूख से तड़पता हुआ अपनी मौत का इंतजार करता रहता।बेटी से पिता की यह हालत देखी नहीं गई और एक दिन उसने एक साहसिक फैसला लिया।अपने पिता को अपना स्तनपान कराने का।

अब वह हर रोज पिता से जेल में मिलती और पहरेदारों से नजर बचाकर अपने पिता को पेट भर अपना दूध पिलाती।अब पिता की हालत दिन-प्रतिदिन अच्छी होने लगी।जिससे जेल के पहरेदारों को शक हो गया और वो लड़की पर नजर रखने लगे।एक दिन पहरेदारों ने लड़की को अपने पिता को दूध पिलाते हुए देख लिया।दोनों को पकड़कर राजा के सामने पेश किया गया और उन पर मुकदमा चलाया गया ।

जानिए …ट्रेन 18 और ट्रेन 20 के बारे में ?

काफी बहस के बाद राजा ने कानून से हटकर बाप-बेटी के इस भावात्मक रिश्ते का मान रखकर अपना फैसला सुनाया और दोनों को बाइज्जत रिहा कर दिया। इसी भावात्मक रिश्ते को लेकर यूरोप के मशहूर चित्रकार बारतोलोमिओ एस्तेबन मुरिलो ने यह ख़ूबसूरत पेंटिंग बनाई जो दुनिया भर में चाह़ी व सराही गई और यह दुनिया की सबसे महंगी और सुंदर पेंटिंग्स में से एक है।

कौन है मशहूर चित्रकार बारतोलोमिओ एस्तेबन मुरिलो ? (Who was Bartolome Esteban Murillo )

Bartolome Esteban Murillo की प्रसिद्द पेंटिंग कौन सी हैं ?

स्पेन के प्रसिद्ध चित्रकार एस्तेबन मुरिलो (Bartolome Esteban Murillo )का जन्म 31 दिसंबर सन 1617 में सिविले (स्पेन) में हुआ था।उनके पिता नाई थे।उनका बचपन बहुत ही गरीबी में बीता लेकिन उनको बचपन से ह़ी चित्रकला में अत्यधिक रुचि थी।उन्होंने अपने अंकल से पेंटिंग बनानी सीखी।वो जो भी पेंटिंग बनाते थे उसे एक स्थानीय मेले में जाकर बेच देते थे।

मेले में पेंटिंग बेचने का काम Bartolome Esteban Murillo काफी समय तक किया।बारतोलोमिओ एस्तेबन मुरिलो पहले सिर्फ धार्मिक विषयों में ही पेंटिंग बनाते थे जिनकी काफी प्रशंसा हुई।धीरे-धीरे लोग उनकी पेंटिंग को पसंद करने लगे। और उनको सफलता मिलती गई।सन 1645 तक Bartolome Esteban Murillo दुनिया भर में प्रसिद्द हो गये।सामान्य परिवार में जन्मे मुरिलो की साल 1640 में शादी हुई।उनकी पत्नी एक समृद्ध परिवार से ताल्लुक रखती थी।

Bartolome Esteban Murillo ज्यादातर रोजमर्रा के जीवन को पेंटिंग के जरिए दिखाते थे।खास कर एंंडालुसियन के जीवन को।एक वक्त ऐसा भी आया जब मेरिलो इतने प्रसिद्ध हो गए कि राजा ने उनकी चित्रकला पर रोक लगा दी। वैसे मुरिलो स्पेन से कभी बाहर नहीं गए।मुरिलो का निधन 3 अपैल 1682 में 64 वर्ष की उम्र में हुआ।

Fit India Movement क्या है?जानिए

Bartolome Esteban Murillo की ज्यादातर पेंटिंग “सेंट पीटर्सवर्ग” के म्यूजियम में रखी हैं लेकिन वर्ल्ड फेमस ” टू विमेन एट अ विंडो (Two Women At A Window )” वाशिंगटन में “नेशनल गैलरी ऑफ आर्ट” में रखी गई है।इस पेंटिंग में दो महिलाएं दिख रही है जिनमें से एक वृद्ध और दूसरी नवयुवा है।पेंटिंग में दिख रही वृद्ध महिला बाहर का दृश्य देखकर हंस रही है मगर उसने अपने मुंह में कपड़ा रखा हुआ है।वहीं युवा लडकी बाहर का नजारा देखकर खुश हो रही है।उसकी आंखों में अद्भुत चमक है।

बारतोलोमिओ एस्तेबन मुरिलो की पेंटिंग का गूगल ने बनाया डूडल चित्र आभार -विकिपीडिया

Google का Google Doodle

Bartolome Esteban Murillo की अधिकतर पेंटिंग असली घटनाओं पर आधारित होती थी जिनको काफी पसंद किया जाता था।इन्होंने अपने समय पर महिलाओं और बच्चों की वास्तविक दृश्यों पर आधारित काफी पेंटिंग्स बनाई थी।सड़कों पर भीख मांगते विद्यार्थियों, फूल बेचने वाली लड़कियों, सड़कों पर घूमने वाले लावारिस बच्चों के चित्र भी बनाए थे।जिससे उस समय के हालात का पता चलता है।

26 वर्ष की उम्र में Bartolome Esteban Murillo मैड्रिड चले गये। जहाँ उन्होंने काफी शोहरत बटोरी।लेकिन कुछ सालों बाद वो वापिस अपने शहर सेविले वापस लौट आए। और यहां पर उन्होंने “एकेडमी ऑफ आर्ट” की स्थापना भी की।

जानिए … कहाँ हैं स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी ?

बारतोलोमिओ एस्तेबन मुरिलो की कुछ प्रसिद्ध पेंटिंग

Two Women At A Window ,The Little Fruit Seller, Old Women With Distaff , Soult Immaculate. उनकी बनाई हुई विश्व प्रसिद्ध पेंटिंग हैं जो आज भी लोगों को बहत पसंद हैं।

UAPA बिल 2019 क्या है जानें  विस्तार से

गूगल ने याद किया गूगल डूडल बना कर

गूगल ने भी महान चित्रकार Bartolome Esteban Murillo को अपने ह़ी विशिष्ट अंदाज में याद किया।गूगल ने गूगल डूडल (Google Doodle) बना कर अपने खास अंदाज में उन्हें समर्पित किया।गूगल ने स्पेन के इस महान चित्रकार का 400 वां जन्मदिन 29 नवंबर 2018 को मनाया और उन्हें याद किया।

गूगल अपने होम पेज पर इनकी 360 साल पहले बनी एक पेंटिंग को दिखा रहा है।इस पेंटिंग का नाम “Two Women At A Window हैं। यह कलाकृति अभी अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन में स्थित “नेशनल गैलरी ऑफ आर्ट” में रखी गई है।इस पेंटिंग को लगभग 1655 से 1660 के बीच में बनाया गया।

You are welcome to share your comments.If you like this post Then please share it.Thanks for visiting.

यह भी जानें ।

क्या हैं प्रधानमन्त्री उज्ज्वला योजना ?

क्या हैं डिजीलाँकर या डिजीटल लाँकर ? 

क्या हैं अपराजिता 100 मिलियन स्माइल्स ?

क्या हैं इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन  प्रोग्राम ? 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *