An Essay On My Best Friend: मेरा प्रिय मित्र पर निबन्ध

An Essay On My Best Friend : मेरा प्रिय मित्र पर निबन्ध

An Essay On My Best Friend

मेरा प्रिय मित्र पर निबन्ध (400 Words)

प्रस्तावना

दोस्त या मित्र एक ऐसा व्यक्ति जिससे आप अपना हर दुख-सुख बिना किसी झिझक के आसानी से बांट सकते हैं। दुनिया में दोस्ती ही एक ऐसा रिश्ता है जिसे व्यक्ति खुद चुनता है और एक सच्चा दोस्त मिलना जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि है। सच्चा दोस्त मिलना भी कठिन है। इस दुनिया में बहुत कम ऐसे लोग हैं जिन्हें सच्चे और अच्छे दोस्त मिलते हैं। एक सच्चा दोस्त ईश्वरीय उपहार से कम नहीं है। 

मेरा अच्छा दोस्त (My Best Friend )

मैं बहुत खुशनसीब हूं कि मुझे अपनी पहली क्लास में ही एक सच्चा दोस्त मिल गया। और हम आज आठवीं क्लास में पहुंचकर भी एक दूसरे के गहरे मित्र हैं। मेरे सबसे अच्छे दोस्त का नाम है आदित्य।

आदित्य सच में बहुत अच्छा लड़का है। वह बहुत ही गंभीर , शांत स्वभाव का मेहनती लड़का है। वह सिर्फ मेरा ही नहीं बल्कि सारी क्लास व शिक्षकों का चहेता है। वह क्लास के विद्यार्थीयों की हर तरीके से मदद करता है। जिससे क्लास के सारे बच्चे उसके अच्छे दोस्त बन गये हैं। 

आदित्य पढ़ाई में बहुत अच्छा है साथ ही साथ वह एक बहुत अच्छा वक्ता व खिलाड़ी भी हैं। वह स्कूल में होने वाली विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं व भाषण प्रतियोगिताओं में बढ़-चढ़कर भाग लेता हैं।

जबकि मेरी इस तरह के कार्यक्रमों में कोई रुचि नहीं थी।उसने मुझे बताया कि खेल प्रतियोगिता में भाग लेने से शाररिक व्यायाम तो होता ही है साथ में खेल हमारे मानसिक स्तर में भी सुधार लाता है। हमें तनाव से रहित बनाता है। धीरे-धीरे उसने मुझे खेल प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए प्रेरित किया।

उसने मुझे सिखाया कि जीवन में किसी भी कठिन समस्या से भाग कर नहीं , बल्कि उसका सामना कर समस्या को हल करना चाहिए। जीत-हार जीवन का एक हिस्सा है लेकिन इस डर से हम प्रतियोगिता में भाग ना लें। यह गलत है। अब उसकी तरह मैं भी हर प्रतियोगिता में भाग लेता हूं।

इसके अलावा उसे किताबें , कहानियां पढ़ना बहुत पसंद है। वह अक्सर स्कूल में अपना खाली समय लाइब्रेरी में बिताता है। जहां वह महान लोगों की जीवनियों को पढता है और कहानियों का मजा लेता है। 

उपसंहार 

आदित्य सच में बहुत ही मेहनती व ईमानदार लड़का है। उसके जैसे दोस्त का मिलना मेरे लिए सौभाग्य की बात है।हालांकि वह मेरा हमउम्र है लेकिन उसके अंदर ऐसी कुछ बातें हैं जो बहुत अच्छी हैं। मैंने धीरे-धीरे उन आदतों को अपनाया है। मुझे उसकी दोस्ती पर गर्व है और मैं आदित्य जैसे दोस्त को कभी नहीं गवाना चाहूंगा। 

An Essay On My Best Friend

मेरा प्रिय मित्र पर निबन्ध (500 Words)  

प्रस्तावना 

एक सच्चा और अच्छा मित्र सच में ईश्वर का दिया हुआ अनमोल उपहार होता है। लेकिन आज की दुनिया में एक सच्चा और ईमानदार दोस्त मिलना बहुत कठिन है। दोस्त ही एक ऐसा व्यक्ति होता है जिससे आपका खून का संबंध तो नहीं होता लेकिन कई बार वह आपकी जिंदगी में आपके खून के रिश्तो से भी ज्यादा अहम भूमिका निभाता हैं।  

मेरा अच्छा दोस्त (My Best Friend )

मैं उन भाग्यशाली लोगों में से हूं जिसे सच में ईश्वर ने उपहार के रूप में विनय जैसा प्यारा दोस्त दिया । विनय और मेरी दोस्ती लगभग 5 साल पुरानी है।जब मेरे पिता दूसरे शहर से इस शहर में ट्रांसफर होकर आए। और उन्होंने विनय के पड़ोस में ही एक मकान खरीद लिया।

विनय और मैं पड़ोसी बन गए। इसके बाद मेरे पिता ने विनय के स्कूल में ही मेरा पांचवी क्लास में एडमिशन करा दिया। शुरू में तो उससे मेरा एक पड़ोसी के रूप में ही परिचय था। लेकिन धीरे धीरे हम प्रतिदिन एक ही बस स्टॉप से बस पकड़कर स्कूल जाते हैं। और एक साथ घर आते।

एक ही क्लास में होने के कारण दिन भर साथ रहते। इससे हमें एक दूसरे को समझने का मौका मिला और हम गहरे दोस्त बनते चले गए। अब हम साथ में ट्यूशन जाते , साथ में अपना होमवर्क पूरा करते और पढ़ाई में एक दूसरे की पूरी मदद करते हैं।

वह पढ़ाई में बहुत अच्छा है और हमेशा क्लास में प्रथम आता है। वह गणित विषय में बहुत अच्छा है जबकि गणित विषय मुझे थोड़ा सा कठिन लगता है।लेकिन उसने मुझे गणित के सवालों को हल करने का सरल तरीका समझाया है। अब मुझे यह विषय भी रोचक लगने लगा है। 

विनय सच में बहुत ही सहनशील , धैर्यवान व सभ्य लड़का है। किसी काम को करने से पहले उस काम को अच्छे से समझ लेता है तब वह काम करता हैं।जबकि मैं हर काम को करने में थोड़ा जल्दबाजी दिखाता हूं।जिससे कई बार मेरे बनते काम बिगड़ जाते हैं। और मैं परेशानी में पड़ जाता हूँ। 

इसके अलावा उसे बैडमिंटन खेलना बहुत पसंद है। वह अक्सर अनेक प्रतियोगिताओं में भाग लेता है और पुरस्कार जीतकर लाता है। 

वह बहुत अनुशासन प्रिय व समय का पाबंद है। उसने मुझे विद्यार्थी जीवन में अनुशासन व समय की महत्वता को समझाया। अब मैं भी अपने प्रत्येक कार्य को समय पर पूरा करता हूं।  इस साल हम दोनों 10वीं की बोर्ड परीक्षा में बैठने जा रहे हैं।

इसीलिये हम दोनों एक साथ बैठकर पढ़ाई करते हैं और अपनी पढ़ाई से संबंधित सारी समस्याओं को हल करने का प्रयास करते हैं।ताकि परीक्षा में अच्छे मार्क्स लेकर आए। हमारी तरह हमारे परिवारों के बीच में एक घनिष्ठ संबंध बन गया है। 

उपसंहार 

हर इंसान को अपने जीवन में अपने दुख-सुख बांटने के लिए एक दोस्त की हमेशा आवश्यकता होती है। मैं ईश्वर का शुक्रगुजार हूं कि उसने मुझे विनय जैसा दोस्त दिया , जो मुझे मेरी हर परेशानी में से आसानी से बाहर निकाल देता है। मुझे हमारी दोस्ती पर नाज है। 

An Essay On My Best Friend: मेरा प्रिय मित्र पर निबन्ध

You are most welcome to share your comments . If you like this post . Then please share it . Thanks for visiting.

यह भी पढ़ें……

Essay on Effects of Lockdown in Hindi

Essay on Lockdown in Hindi

Essay on Coronavirus or Covid-19

Essay on Saksharata ka Mahatw

Essay on Environment in Hindi

Essay on Organic Farming in Hindi 

Essay on Swchh Bharat Abhiyan in hindi

Essay on Plastic Bages in Hindi 

Essay on My Country India in hindi

Essay on Flood in hindi

Essay on Farmers in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *