Drone Project Management Unit (PMU) Uttarakhand

First Drone Project Management Unit (PMU) (Uttarakhand) in India ड्रोन को उड़ाने और उसके इस्तेमाल करने के प्रशिक्षण पर दिया जाएगा विशेष ध्यान।

Drone Project Management Unit

उत्तराखंड में ड्रोन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट अर्थात पीएमयू केंद्र बनने जा रहा है।यह प्रदेश का ही नहीं, देश का भी पहला ड्रोन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट है

Drone Project Management Unit

ड्रोन तकनीक को बढ़ावा देने के लिए देश में अभी तक अलग से कोई पीएमयू (PMU) नहीं था।इसके बनने से उत्तराखंड में ड्रोन पर रिसर्च एवं डेवलपमेंट कार्य के साथ ही प्रशिक्षण की सुविधा भी मिलेगी।पीएमयू के लिये अलग से विशेषज्ञ स्टाफ रखा जाएगा। 

उत्तराखंड में बनने वाले सैटेलाइट टाउन और मॉडल हिल टाउन क्या है?

ड्रोन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट बनाने का उद्देश्य

ड्रोन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट बनाने का मुख्य उद्देश्य सेना,पैरामिलिट्री फोर्स, इंटेलिजेंस तथा अन्य विभागों में ड्रोन के इस्तेमाल को बढ़ावा देना है

इसीलिए अब राज्य की सरकार के आईटी विभाग के द्वारा अपने राज्य (उत्तराखंड) में ड्रोन तकनीकी सेक्टर में निवेश और इसके उपयोग को बढ़ावा देने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। 

उत्तरदायी विभाग – सूचना और प्रौद्योगिकी विभाग (IT Department) 

कहां बनेगा ड्रोन पीएमयू (PMU) केंद्र  

(First Drone Project Management Unit (PMU, Uttarakhand) in India)

ड्रोन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट को उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के सहस्त्रधारा रोड स्थित आईटी पार्क के 24,000 वर्ग मीटर क्षेत्र में विकसित किया जाएगासूचना और प्रौद्योगिकी विभाग ने आईटी पार्क में पीएमयू को विकसित करने के लिए आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है

पिथौरागढ़ में खुलेगा देश का सबसे बड़ा टयूलिप गार्डन गार्डन?

ड्रोन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट के मुख्य कार्य

  • उत्तराखंड में बनने वाले देश का पहले ड्रोन प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट (पीएमयू) मुख्य कार्य ड्रोन को उड़ाने और उसको इस्तेमाल करने का प्रशिक्षण देना ही होगा।यह कार्य योग्य विशेषज्ञों के द्वारा किया जायेगा।
  • इस केंद्र में ड्रोन तकनीकी पर नए शोध और ड्रोन विकास पर भी काम किया जाएंगा।
  • यहाँ पर सेना, पैरामिलिट्री फोर्स,  इंटेलिजेंस विभाग तथा अन्य विभागों के लोगों को विशेषज्ञों के द्वारा ड्रोन के इस्तेमाल का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा
  • प्रदेश में अन्य विभागों को भी मैपिंग, निगरानी समेत अन्य कार्यों को ड्रोन द्वारा करने की जानकारी दी जाएगी।

दो संस्थायें साथ मिलकर काम करेगी

सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया (STPOI) और आईटीडीए (ITDA) मिलकर पीएमयू को “सेंटर फॉर एक्सीलेंसी” के रूप में विकसित करेंगे।

13 डिस्ट्रिक्ट 13 डेस्टिनेशन योजना (उत्तराखंड) क्या है ?

नये ग्रोथ सेंटर बनाये जायेंगे 

ड्रोन तकनीकी को बढ़ावा देने  के लिये ऋषिकेश और पिथौरागढ़ में ग्रोथ सेंटर स्थापित किए जायेंगे।ये सभी ग्रोथ सेंटर,आईटी विभाग के द्वारा ही स्थापित किये जायेंगे।

जहां पर युवाओं ,सरकारी अधिकारियों व रक्षा कर्मियों को ड्रोन तकनीक, ड्रोन को उड़ाने और उसको इस्तेमाल करने का प्रशिक्षण दिया जायेगा।ताकि भविष्य के लिए योग्य ड्रोन विशेषज्ञ व प्रशिक्षक मिल सकें।

अभी इस बारे (Drone Project Management Unit (PMU) Uttarakhand) में जानकारी सीमित है।और जानकारी मिलते ही Post को Update कर दिया जायेगा।

You are most welcome to share your comments.If you like this post.Then please share it.Thanks for visiting.

यह भी पढ़ें……

मैं एक गांव हूँ  योजना (उत्तराखंड) क्या है ?

दीनदयाल उपाध्याय स्टे होम योजना उत्तराखंड

दीनदयाल उपाध्याय सहकारिता किसान कल्याण योजना उत्तराखंड

दीनदयाल उपाध्याय पेंशन योजना उत्तराखंड 

पलायन से संबंधित योजनायें

Leave a Reply

Your email address will not be published.