फूलदेई त्यौहार ,उत्तराखंड का एक प्यारा सा लोकपर्व in hindi

हिंदू नववर्ष के स्वागत का पर्व , फूलदेई त्यौहार (Phooldei Festival) , उत्तराखंड की लोक संस्कृति से जुड़ा पर्व हैं फूल संक्रांति(Phool Sankranti) या फूलदेई त्यौहार।कैसे मनाया जाता है फूलदेई त्यौहार।

फूलदेई त्यौहार,उत्तराखंड का एक प्यारा सा लोकपर्व

उत्तराखंड अपनी खूबसूरत वादियों ,ऊंचे ऊंचे पहाड़,पर्वतों , झीलों , नदियों व शानदार हिमालय के दर्शन के लिए जाना जाता है ।और यहां पर प्रकृति द्वारा बिना कहे दिए जाने वाले अनगिनत उपहारों के बदले प्रकृति को धन्यवाद देने हेतु अनेक त्यौहार मनाए जाते हैं ।उनमें से एक त्यौहार है फूलदेई त्यौहार या फूल संक्रांति।

Fit India Movement क्या है?जानिए

कब मनाया जाता है फूलदेई त्यौहार।

फूलदेई त्यौहार प्रत्येक वर्ष चैत्र मास की संक्रांति को मनाया जाता है ।यह चैत्र मास का प्रथम दिन माना जाता है।और हिंदू परंपरा के अनुसार इस दिन से हिंदू नव वर्ष की शुरुआत मानी जाती है।यह त्यौहार नववर्ष के स्वागत  के लिए ही मनाया जाता है।इस वक्त उत्तराखंड के पहाड़ों में अनेक प्रकार के सुंदर फूल खिलते हैं।

पूरे पहाड़ का आंचल रंग-बिरंगे फूलों से सज जाता है।और बसंत के इस मौसम में फ्योली, खुमानी, पुलम, आडू , बुरांश ,भिटोरे आदि  के फूल हर कहीं खिले हुए नजर आ जाते हैं।जहां पहाड़ बुरांश के सुर्ख लाल चटक फूलों से सजे रहते हैं वही घर आंगन में लगे आडू, खुमानी के पेड़ों में सफेद व हल्के बैंगनी रंग के फूल खिले रहते हैं।

तन की सुंदरता या मन की सुंदरता ( Motivational story in Hindi)

कैसे मनाया जाता है फूलदेई त्यौहार।

फूलदेई त्यौहार मनाते बच्चे

चैत्र मास की संक्रांति के दिन या चैत्र माह के प्रथम दिन छोटे–छोटे बच्चे जंगलों या खेतों से फूल तोड़ कर लाते हैं।और उन फूलों को एक टोकरी में या थाली में सजा कर सबसे पहले अपने देवी देवताओं को अर्पित करते हैं।

उसके बाद वो पूरे गांव में घूम -घूम कर गांव की हर देहली( दरवाजे) पर जाते हैं ।और उन फूलों से दरवाजों (देहली) का पूजन करते हैं।यानी दरवाजों में उन सुंदर रंग बिरंगे फूलों को बिखेर देते हैं।साथ ही साथ एक सुंदर सा लोक गीत भी गाते हैं।

फूल देई  ……छम्मा देई

देणी द्वार……. भर  भकार ……

फूल देई  ……छम्मा देई।

उसके बाद घर के मालिक द्वारा इन बच्चों को चावल, गुड़ ,भेंट या अन्य उपहार दिए जाते हैं। जिससे ये छोटे-छोटे बच्चे बहुत प्रसन्न होते हैं ।इसी तरह गांव के हर दरवाजे का पूजन कर उपहार पाते हैं।यह प्रकृति और इंसानों के बीच मधुर संबंध को दर्शाता है।जहां प्रकृति बिना कुछ कहे इंसान को अनेक उपहारों से नवाज देती है।और बदले में प्रकृति का धन्यवाद उसी के दिए हुए इन प्राकृतिक रंग बिरंगी फूलों को देहरी में सजाकर किया जाता है।

क्यों हैं उत्तराखंड में बेरोजगारी ?….जानें   

फूलदेई त्यौहार पर बनते हैं विशेष व्यंजन

फूलदेई त्यौहार में वैसे तो शाम को तरह तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं ।मगर चावल से बनने वाला  सई ( सैया) विशेष एक तौर से बनाया जाता है।चावल के आटे को दही में मिलाया जाता है।फिर उसको लोहे की कढ़ाई में घी डालकर पकने तक भूना जाता है।उसके बाद उसमें स्वादानुसार चीनी व मेवे  डाले जाते हैं यह अत्यंत स्वादिष्ट और विशेष तौर से इस दिन खाया जाने वाला व्यंजन है।

  

फूलदेई त्यौहार उत्तराखंड के गांवों में धूमधाम से मनाया जाता है।

You are welcome to share your comments.If you like this post then please share it. Thanks for visiting.

यह भी जाने..

क्या हैं राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की खासियत  ?

क्या हैं प्रधानमन्त्री कुसुम योजना ?

क्यों मनाया जाता हैं गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को ?  

क्या हैं जमरानी बांध की खासियत ?

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.