बाल्मीकि जयंती क्यों मनाई जाती है?जानिए इसका महत्व।

Why do we celebrate Valmiki Jayanti? बाल्मीकि जयंती को “प्रकट दिवस” के रूप में भी मनाया जाता है।बाल्मीकि जयंती का महत्व। 

यूं तो भारत की धरती में एक से बढ़कर एक महान ऋषि-मुनियों ने जन्म लियाविज्ञान आज जिस भी चीज की खोज कर इतराता है।उसका ज्ञान हमारे ऋषि-मुनियों ने आज से हजारों साल पहले ही हमें दे दिया थामहान ऋषि मुनियों की धरती भारत भूमि में एक ऐसे ही ऋषि भगवान बाल्मीकि का जन्म भी हुआजिन्होंने रामायण जैसे अद्भुत महाकाव्य की रचना कीजिसने दुनिया को विश्वबंधुता ,भाईचारे का संदेश दिया।इस पौराणिक ग्रंथ द्वारा दी गई बाल्मीकि जी की शिक्षा आज भी लोगों के लिए अमूल्य है

बाल्मीकि जयंती क्यों मनाई जाती है?

जानिए क्यों मनाया जाता है दीपावली का त्यौहार?

असाधारण प्रतिभा के धनी वाल्मीकि का जीवन हमें सही मार्ग में चलने को प्रेरित करता हैऔर यह भी समझाता है कि जीवन में घटने वाली प्रत्येक घटना चाहे वह कितनी ही छोटी क्यों न होउससे आदमी प्रेरणा लेकर अपने जीवन में परिवर्तन ला सकता हैबाल्मीकि जी के जीवन में घटी  एक घटना ने उनका जीवन को देखने का नजरिया ही बदल दिया।और उनको एक डाकू रत्नाकर से बाल्मीकि जैसे महान पूज़्यनीय ऋषि की श्रेणी में खड़ा कर दिया

महर्षि बाल्मीकि जी को माना जाता है आदिकवि व प्रथम श्लोक रचयिता

महर्षि बाल्मीकि ने संस्कृत भाषा में रामायण की रचना की थीउनके द्वारा रची गई रामायण को आज लोग “बाल्मीकि रामायण” के नाम से जानते है।यह रामायण पूरी तरह से संस्कृत भाषा में लिखी गई है।चूँकि महर्षि बाल्मीकि ने संस्कृत के प्रथम महाकाव्य की रचना की थीइसीलिए उनको “आदिकवि” भी कहा जाता हैवो प्रथम श्लोक के रचयिता भी थे

क्या है किसान सम्मान निधि योजना?जानिए 

बाल्मीकि जयंती कब मनाई जाती है

हिंदू धर्म के धार्मिक व पौराणिक महाकाव्य रामायण के रचयिता महर्षि बाल्मीकि का जन्मोत्सव यानि बाल्मीकि जयंती अश्वनी मास की शरद पूर्णिमा के दिन मनाया जाता हैबाल्मीकि जयंती को “प्रकट दिवस” के रूप में भी मनाया जाता है

एक घटना जिसने डाकू रत्नाकर को महान ऋषि बाल्मीकि में बदल दिया 

महर्षि बाल्मीकि का वास्तविक नाम रत्नाकर था।रत्नाकर प्रचेता के पुत्र थे।प्रचेता ब्रह्माजी के मानस पुत्र थे।बालक रत्नाकर को बचपन में एक भील परिवार ने चुरा लिया था।जिस कारण उनका पालन पोषण भील परिवार में होने लगा।भील परिवार में पालन-पोषण होने के कारण रत्नाकर ने भी भील परंपराओं को सीखना व अपनाना शुरू किया।

बालक रत्नाकर जब बड़े हुए तो वह अपने परिवार का भरण पोषण करने के लिए एक डाकू बन गए।अब उनकी आजीविका लूटपाट पर निर्भर रहती थीवह प्रतिदिन जंगल से गुजरने वाले किसी न किसी राहगीर को लूट लेते थे।और इस तरह वह अनजाने में ही अनेक पापों को अपने सिर पर लेते जा रहे थे

जानिए क्यों मनाया जाता है दशहरा पर्व 

नारद मुनि ने दिखाया सही मार्ग 

एक दिन जब वह जंगल में छुपकर लूटने के लिए किसी राहगीर का इंतजार कर रहे थे।तभी वहां नारद मुनि प्रकट हुएनारद मुनि उस समय पृथ्वी लोक के भ्रमण पर थेरत्नाकर ने उन्हें भी लूटने के उद्देश्य से पकड़ लियानारद मुनि ने रत्नाकर से पूछा “तुम यह सब काम क्यों कर रहे हो” रत्नाकर ने जवाब दिया “यही तो मेरी आय का स्रोत हैजिससे मैं अपने परिवार का भरण पोषण करता हूं”

तब नारद मुनि ने उनसे पूछा “जिस परिवार के लिए तुम यह सब पाप हर रोज करते होक्या वह परिवार तुम्हारे पापों के फल भोगने के वक्त भी तुम्हारे साथ रहेगा “रत्नाकर ने बड़े विश्वास से कहा “हां क्यों नहीं !!मेरा परिवार हमेशा मेरे हर काम में साथ देता हैतो मेरे पापों को अपने सिर लेने के लिए क्यों नहीं तैयार होगा”

नारद जी यह सुनकर मुस्कुराए और बोले “एक बार घर जाकर अपने परिजनों से पूछ लोअगर उन्होंने आपकी बात मान ली।और उन्होंने इस प्रश्न के जवाब में हां कहा तो मैं तुम्हें बहुत सारा धन दूंगा”

जानिए क्यों मनाया जाता है उत्तराखंड के पर्वतीय अंचलों में सांतों आठों का पर्व 

रत्नाकर बड़े आत्मविश्वास के साथ घर गयाऔर उसने अपने परिजनों से एक-एक कर यही प्रश्न दोहरायालेकिन किसी ने भी इस सवाल का जवाब हां में नहीं दियारत्नाकर को इस बात से गहरा दुख पहुंचाऔर उन्हें पहली बार अपनी गलतियों का एहसास हुआउन्होंने उस मार्ग को तुरंत छोड़ कर सत्कर्म के मार्ग पर चलने का दृढ़ निश्चय किया

नारद मुनि ने दिया बाल्मीकि को राम नाम का महामंत्र

नारद जी ने बाल्मीकि को सत्मार्ग पर चलने की राह दिखाईऔर उन्हें राम नाम का महा मंत्र जपने की सलाह दीजिसके फलस्वरूप बाल्मीकि परिवार को छोड़कर वन में तपस्या करने चले गए जहां वो कई सालों तक तपस्या करते रहे और राम नाम का जप करते रहें।महर्षि बाल्मीकि को तपस्या करते वक्त दीन दुनिया का कोई एहसास ही नहीं रहा।यहां तक कि महर्षि बाल्मीकि के शरीर में दीमक ने अपना घर भी बना लिया था।जिसे सामान्य भाषा में बाल्मीकि कहा जाता है। 

जानिए उत्तराखंड के जागेश्वर धाम का महत्व?

कई वर्षों की कठोर तपस्या करने के बाद ब्रह्मा जी उनसे प्रसन्न हुए और उन्हें दर्शन दिएउनके शरीर में दीमक की बांबी(घर)देखकर ब्रह्मा जी ने रत्नाकर को बाल्मीकि नाम से संबोधित कियाबस यही से रत्नाकर का महर्षि बाल्मीकि बनने का सफर शुरू हुआ 

महर्षि बाल्मीकि ने की सबसे पहले श्लोक की रचना

एक बार महर्षि बाल्मीकि गंगा नदी के तट पर गए।उन्होंने देखा कि पास पर ही एक क्रोंच पक्षी का जोड़ा अपनी प्रणय लीला में व्यस्त था।अचानक उसी वक्त एक शिकारी ने तीर मारा,जो सीधे आकर नर पक्षी को लगाजिससे नर पक्षी के प्राण पखेरू उड़ गए और वह जमीन में गिर पड़ायह हृदय विदारक दृश्य देखकर बाल्मीकि जी के मुख से अचानक ही श्लोक निकल पड़ा

मां निषाद प्रतिष्ठां त्वमगम: शास्वती समा:

यत्क्रौँचमिथुनादेकम् अवधी: काममोहितम्

जिसका अर्थ था जिस शिकारी ने प्रणय लीला करते इस पक्षी का वध किया हैउसे जीवन में कभी सुख नहीं मिलेगा

क्या है खासियत डिजीलॉकर या डिजिटल लॉकर की जानिए  

लेकिन जब इसके बाद उन्होंने गौर से सोचा कि यह उनके मुंह से अचानक क्या निकल गयाउसी समय नारद वहां पर प्रकट हुएउन्होंने महर्षि बाल्मीकि को बताया कि यही आपके जीवन का पहला श्लोक है।और इस धरती में श्लोक के जन्मदाता भी आप ही हैं।अब आप रामायण जैसे महाकाव्य की रचना करेंगे

महाग्रंथ रामायण की रचना संस्कृति भाषा की

इसके बाद महर्षि बाल्मीकि ने महाकाव्य रामायण की रचना देवभाषा संस्कृति में कीइस ग्रंथ में प्रेम,त्याग,तपस्या,बड़ों के सम्मान आदि भावनाओं को बड़ी ही सुंदरता से बताया गया हैतथा प्रत्येक व्यक्ति को जीवन में सतमार्ग पर चलने की प्रेरणा दी गई है

जानिए भाई-बहन के प्यार का पर्व रक्षाबंधन का महत्व

बाल्मीकि जयंती का हमारे जीवन में महत्व

महर्षि बाल्मीकि ने हमें रामायण जैसे महाग्रंथ को दियाजिसमें रिश्तो के ताने-बानों को बड़े ही मर्यादित ढंग से बुना गया है।यह महाकाव्य पुत्र धर्म,भाई धर्म,गृहस्थ धर्म,मित्र धर्म,भक्त धर्म आदि को बड़े मर्यादित तरीके से निभाने का संदेश देता है।महर्षि बाल्मीकि द्वारा इस महाकाव्य में लिखी हुई हर बात आज भी हमारे समाज को प्रेरणा देती है।इसीलिए बाल्मीकि जयंती हमारे लिए महत्वपूर्ण हो जाती है।  

महर्षि बाल्मीकि के आश्रम में लिया लव कुश ने जन्म

एक बार जब भगवान राम ने किसी कारणवश देवी सीता का त्याग कर दियातब देवी सीता ने महर्षि वाल्मीकि के आश्रम में ही शरण लीजहां पर उन्होंने अपने दोनों पुत्रों लव और कुश को जन्म दिया।महर्षि वाल्मीकि के आश्रम में ही लव और कुश का लालन-पालन हुआआज भी वाल्मीकि का आश्रम नैनीताल जिले में स्थित हैजिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में स्थित यह आश्रम आज सीताबनी के नाम से जाना जाता है

मोटर वाहन संशोधन बिल 2019 के बारे में जाने

कैसे मनाई जाती है बाल्मीकि जयंती

बाल्मीकि जयंती यूं तो पूरे देश भर में मनाई जाती हैलेकिन उत्तर भारतीय लोगों में यह ज्यादा ही प्रचलित हैइस दिन बाल्मीकि मंदिरों में पूजा अर्चना की जाती हैकई धार्मिक आयोजन किए जाते हैंबाल्मीकि जी के जीवन पर आधारित रंगारंग कार्यक्रमों को दिखाया जाता है

बाल्मीकि जयंती के मौके पर कई जगहों पर बाल्मीकि जी के जीवन पर आधारित नाटक प्रस्तुत किए जाते हैंतथा कई जगहों पर रामायण को भी नाट्य रूप में प्रस्तुत कर लोगों को दिखाया जाता हैइस दिन भब्य शोभायात्रायें निकाली जाती हैंस्वयंसेवी संस्थाएं एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा बाल्मीकि जयंती के मौके पर फल,मिष्ठान व खाने आदि का वितरण किया जाता है

You are most welcome to share your comments.If you like this post.Then please share it.Thanks for visiting.

यह भी पढ़ें……

 क्या है कुसुम योजना?

लोकायुक्त और लोकपाल कानून क्या है?

मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा क्या होता है?

26 जनवरी को ही गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है जानिए 

स्टडी इन इंडिया प्रोग्राम क्या है जानें?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *