दीक्षारंभ और परामर्श योजनाएं क्या है ? in hindi

दीक्षारंभ और परामर्श योजनाएं क्या है?,उच्च शिक्षा व उच्च शिक्षण संस्थानों को अधिक बेहतर बनाने के लिए उठाया गया एक कदम है।

दीक्षारंभ और परामर्श योजनाएं छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा,उपयुक्त माहौल व पठन पाठन के लिए सभी जरूरी सुख-सुविधायें प्रदान करने के लिए बनाई गयी है।क्योंकि किसी भी देश का भविष्य उस देश के बच्चे और नवयुवा ही होते हैं।और इन बच्चों व नवयुवाओं का सुनहरा भविष्य उनकी शिक्षा-दीक्षा पर निर्भर करता है।

इनको सही समय पर,सही मार्गदर्शन मिले यह जरूरी है।इसके साथ ही सभी सुविधाओं से संपन्न शिक्षण संस्थाएं व योग्य शिक्षकों का मार्गदर्शन मिले।तो ये बच्चे अपना ही नहीं बल्कि देश का भी एक उज्ज्वल व बेहतरीन भविष्य का निर्माण करने में मदद कर सकते हैं। 

शिक्षा और शिक्षण संस्थानों के इसी महत्व को समझते हुए केंद्र सरकार के “मानव संसाधन विकास मंत्री” डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक ने 18 जुलाई 2019 को “दीक्षारंभ और परामर्श” नाम की दो योजनाओं का शुभारंभ किया है।जो देश की उच्च शिक्षण संस्थानों में शिक्षा की गुणवत्ता को और बेहतर बनाए जाने से संबंधित सभी सुविधाएं प्रदान करने का प्रयास करेंगी।जिससे वहां पढ़ने वाले सभी छात्र एक स्वस्थ व बेहतरीन माहौल में शिक्षा हासिल कर सकेंगे।

स्टडी इन इंडिया प्रोग्राम क्या है जानिए 

दीक्षारंभ और परामर्श ये दोनों ही योजनायें उच्च शिक्षा के लिए एक उच्च गुणवत्ता मानक का निर्माण करेंगी जिसका अनुसरण सभी विश्वविद्यालयों को करना अनिवार्य होगा।ये दोनों योजनायें (दीक्षारंभ और परामर्श) यूजीसी (UGC) द्वारा इसी शैक्षिक सत्र से देशभर के सभी उच्च शिक्षण संस्थाओं में लागू की जायेंगी।सरकार ने यूजीसी (UGC) को इसे लागू करने की जिम्मेदारी दी है

दीक्षारंभ और परामर्श योजनाओं का उद्देश्य

दीक्षारंभ और परामर्श योजनाओं का उद्देश्य देश के सभी उच्च शैक्षिक संस्थानों को अंतरराष्ट्रीय मानकों के हिसाब से विकसित करनाताकि छात्रों को उच्च गुणवत्ता की शिक्षा बेहतर माहौल में प्रदान की जा सके।

दीक्षारंभ योजना

दीक्षारंभ योजना को हम “Introduction Program” भी कह सकते हैइसमें कॉलेज में दाखिला लेने वाले नए छात्रों को उस शिक्षण संस्थान से संबंधित हर जानकारी दी जाएगीजैसे शिक्षण संस्थान की रैंकिंग,शिक्षण संस्थान के नियम और कानूनों से अवगत कराया जायेगा।साथ ही शिक्षण संस्थान में विद्यार्थियों के लिए मौजूद हर सुविधा व उसका उपयोग करने का तरीका समझाया जायेगा।उस उच्च शिक्षण संस्थान से निकले कुछ होनहार छात्रों के बारे में बताया जाएगा जो नए छात्रों के लिए प्रेरणा के स्रोत होंगे।

यह प्रोग्राम मुख्य रूप से कॉलेज में आए नए छात्रों की मदद के लिए तैयार किया गया है।ताकि नए छात्र कॉलेज के माहौल में आराम से ढाल सकें और उन्हें शिक्षण से संबंधित किसी भी परेशानी का सामना न उठाना पड़े।इस प्रोग्राम में संस्थानों में प्रवेश लेने वाले सभी छात्रों को शामिल होना अनिवार्य है

जानिए चंद्रयान 2 के बारे में ?

परामर्श योजना

परामर्श यानी सलाह/मशवरापरामर्श योजना में उच्च शिक्षण संस्थानों को अपनी गुणवत्ता को और मजबूत बनाने के लिए NAAC और UGC के द्वारा मदद दी जाएगीइसमें विश्वविद्यालयों  और कॉलेजों दोनों को ही शामिल किया गया है

दरअसल सरकार देश के उच्च शिक्षा के सकल नामांकन दर (GIR) को बढ़ाकर दोगुना करना चाहती है।इसीलिए राष्ट्रीय नामांकन दर में पिछड़े सभी उच्च शिक्षण संस्थानों के इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बनाने के लिए वित्तीय मदद दी जा रही है।ताकि उन सभी उच्च शिक्षण संस्थानों के इंफ्रास्ट्रक्चर को और बेहतर बनाया जा सके।

परामर्श योजना के तहत राज्यों में मौजूद ऐसे हर विश्वविद्यालय को 50 करोड़ और कालेज को 10 करोड़ रूपये की वित्तीय मदद दी जाएगी जिसका राष्ट्रीय नामांकन दर NAAC द्वारा निर्धारित रैंक से कम होगावर्तमान में देश में उच्च शिक्षा का औसत नामांकन दर करीब 25% ही है।इस योजना का संचालन विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) द्वारा किया जायेगा

गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम क्या है?

कौन से कालेज होंगे शामिल

परामर्श योजना में उन कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को शामिल किया जाएगा जिन्हें NAAC से 3.26 या उससे अधिक की रैंकिंग (Score) प्राप्त हैं।फ़िलहाल अपने देश में ऐसे 391 कॉलेज और 71 विश्वविद्यालय है।

परामर्श योजना में ज्यादा व बेहतर रैंकिंग वाले संस्थान कम रैंकिंग वाले संस्थानों पर लगातार निगरानी रखेंगे और उनकी गुणवत्ता को बेहतर बनाने का निरन्तर प्रयास करेंगे।और साथ ही साथ कम रैंकिंग वाले संस्थानों में एक विशेषज्ञ की नियुक्ति के लिए वित्तीय मदद भी दी जाएगी फैलोशिप की यह रकम 31,000 रूपये तक हो सकती है

क्या है डिजिटल इंडिया प्रोग्राम की खासियत ?

Mentor और Mentee संस्था

इस योजना में कॉलेजों का मार्गदर्शन करने वाले संस्थानों को मेंटर और मार्गदर्शन पाने वाले संस्थानों को मेंटी के नाम से जाना जाएगा।

Hub And Spoke मॉडल पर आधारित रहेगी योजना

परामर्श योजना “हब एंड स्पोक” मॉडल पर आधारित है।जिसमें संरक्षक संस्थान यानि Mentor को Hub और मेंटी संस्थान को Spoke के नाम से जाना जायेगायह कालेज में प्रवेश ले रहे करोड़ छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने में मदद करेगा

इमोजी का जन्म कहां और कब कैसे हुआ जानें ?

परामर्श योजना की मुख्य विशेषताएं

  1. यह योजना देश की उच्च शिक्षा व संस्थानों की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए बनाई गयी है
  2. यह योजना उन उच्च शिक्षण संस्थानों को NAAC मान्यता प्राप्त करने में मदद करेगी जिन्हें अभी तक यह मान्यता प्राप्त नहीं है।
  3. वित्तीय सहायता मिलने से कॉलेज के इन्फ्रास्ट्रक्चर में भी बदलाव आएगा और छात्रों को और अधिक सुविधाएं प्राप्त होंगी।
  4. एक मेंटर संस्थान 5 कॉलेजों का मार्गदर्शन करेगा
  5. मेंटी संस्थान को बेहतर दिशा निर्देश और अन्य सहायता देने हेतु मेंटर संस्थान एक विशेषज्ञ की नियुक्ति भी करेगा
  6. सरकार उन नए छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना चाहती है जो वर्तमान में भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों में प्रवेश लेना चाहते हैं
  7. परामर्श कार्यक्रम पाठ्यक्रम,टीचिंग-लर्निंग,मूल्यांकन,एकेडमिक शोध,नवाचार, नव-परिवर्तन,संस्थागत मूल्य व अभ्यास के क्षेत्र में व्यापक सुधार के लिए काम करेगा
  8. इसके लिए विषयवार और संकायवार “परामर्श समिति” का गठन किया जाएगा
  9. सभी पीजी विभागाध्यक्षों को अपने अपने विषय के शोध आयाम पर पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन प्रस्तुत करना होगाताकि विश्वविद्यालय स्तर पर भी एक “परामर्श समिति” का गठन किया जा सकेयही परामर्श समिति हब संस्था और स्पोक संस्था का चयन करेगी

हेल्थ एंड वर्किंग कंडीशन बिल 2019 ?

क्या है NAAC और UGC

NAAC (National Assessment And Accreditation Council /राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद)

NACC(नैक)एक संस्थान है जो भारत के उच्च उच्च शिक्षा संस्थानों का आकलन और प्रत्यायन(मान्यता देना) का कार्य करती हैइसकी स्थापना 1994 में हुई थीइसका मुख्यालय बंगलौर में है।इसका आधिकारिक वेबपोर्टल है www.naac.gov.in ।

UGC (University Grants Commission/विश्वविद्यालय अनुदान आयोग)

यह केंद्र सरकार की ही एक संस्था है जो सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों को अनुदान प्रदान करती हैंसाथ ही साथ विश्वविद्यालयों को मान्यता भी देता है।इसकी स्थापना 1956 में हुई थी।इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है।इसका आधिकारिक वेबपोर्टल है www.ugc.ac.in ।

You are most welcome to share your comments.If you like this post.Then please share it.Thanks for visiting.

यह भी पढ़ें……

भारत रत्न पुरस्कार किसे दिया जाता है?

भारत रत्न पुरस्कार की सूची?

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की क्या है खास बात?

मैरीकॉम क्यों है युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *